Teacher Banne Ke Liye Kya Kare (टीचर बन्ने के लिए क्या करे)

Teacher Banne Ke Liye Kya Kare (टीचर बन्ने के लिए क्या करे) – 12वीं के बाद टीचिंग में बेहतर करियर बनाने के लिए बड़ी संभावनाएं होती हैं। हालांकि, सही जानकारी की कमी के कारण, टीचिंग करियर की सीमाएं बन सकती हैं। सरकारी टीचर बनने के लिए 12वीं के बाद क्या करना चाहिए? जिससे आप आसानी से टीचिंग में उत्तम भविष्य बना सकें। निम्नलिखित सारी जानकारी आपकी मदद कर सकती है:

Telegram Group (Join Now) Join Now
WhatsApp Group (Join Now) Join Now
WhatsApp Channel (Follow Now) Follow Now

इस तरह से, आप आपके चयनित शिक्षा क्षेत्र में सरकारी टीचर बनने की प्रक्रिया को समझ सकते हैं और उसे सफलतापूर्वक पूरा कर सकते हैं।

Teacher Banne Ke Liye Kya Kare (टीचर बन्ने के लिए क्या करे)

  1. शिक्षा का चयन: सरकारी टीचर बनने के लिए आपको उच्चतर शिक्षा प्राप्त करनी होगी। आपकी पढ़ाई की स्तर के आधार पर आप प्राइमरी, TGT (त्रेतीया श्रेणी शिक्षक), या PGT (उच्चतर माध्यमिक शिक्षक) बन सकते हैं।
  2. अध्ययन: आपको अपने चयनित क्षेत्र में अध्ययन करना होगा। इसमें बीएड (बीचलर ऑफ एजुकेशन) या डीएलएड (डिप्लोमा इन एजुकेशन) की पढ़ाई शामिल हो सकती है।
  3. केंद्रीय टीचर एलिजिबिलिटी टेस्ट (CTET) / राज्य स्तरीय टीचर एलिजिबिलिटी टेस्ट (STET): यह एक महत्वपूर्ण परीक्षा होती है जो आपकी शिक्षक बनने की पात्रता को मापती है। आपको CTET या STET परीक्षा में पास होना आवश्यक होता है।
  4. अनुभव प्राप्त करें: कुछ सरकारी नौकरियों के लिए अनुभव की आवश्यकता होती है। इसलिए, आपको अपने क्षेत्र में अनुभव प्राप्त करने की कोशिश करनी चाहिए, जैसे कि प्राक्टिकल शिक्षा, ट्यूटरिंग, आदि।
  5. आवेदन प्रक्रिया: सरकारी नौकरियों के लिए आवेदन करने की समय-समय पर आयोजित होने वाली प्रक्रिया का पालन करें। आवेदन पत्र, प्रमाण पत्र, और अन्य आवश्यक दस्तावेजों की समय पर जाँच करें।
  6. संबंधित शिक्षा प्रदान करने वाले संस्थानों का अध्ययन करें: आपके पसंदीदा क्षेत्र में शिक्षा प्रदान करने वाले सरकारी और गैर-सरकारी संस्थानों के बारे में अध्ययन करें और उनके आवेदन प्रक्रिया को समझें।

आपकी इच्छा है कि आप टीचिंग लाइन में करियर बनाएं, इसलिए “sarkari teacher kaise bane” यह जानकारी प्राप्त करना अत्यंत महत्वपूर्ण है। पहले जब आप जान लें कि सरकारी और प्राइवेट टीचर के कितने स्तर होते हैं, तब आपको समझ में आएगा कि आपको किस ग्रेड के छात्रों को पढ़ाने का मौका मिल सकता है। हर ग्रेड के टीचर बनने के लिए अपना-अपना क्वालिफिकेशन और पात्रता मानदंड होते हैं, इसलिए चलिए इस प्रक्रिया को विस्तार से देखते हैं।

प्राइमरी टीचर कैसे बनें

  1. शिक्षागत योग्यता: सबसे पहले, आपको 12वीं कक्षा की परीक्षा पास करनी होगी।
  2. प्राइमरी टीचर ट्रेनिंग कोर्स: आपको प्राइमरी टीचर बनने के लिए प्राइमरी टीचर ट्रेनिंग कोर्स (जैसे कि BSTC, D.EL.ED) करना होगा। यह ट्रेनिंग कोर्स आपको शिक्षक बनने के तकनीकी और पेडगॉजिकल दिशानिर्देश प्रदान करेगा।
  3. प्राइमरी टीचर योग्यता परीक्षा (TET): आपको राज्य स्तर पर आयोजित होने वाली प्राइमरी टीचर योग्यता परीक्षा (TET) पास करनी होगी।
  4. आवेदन: TET परीक्षा के पास होने के बाद, आपको राज्य सरकार द्वारा आयोजित होने वाली प्राइमरी टीचर की रिक्तियों के लिए आवेदन करना होगा।
  5. आयु सीमा: प्राइमरी टीचर बनने के लिए आपकी आयु 18 से 35 वर्ष के बीच होनी चाहिए, लेकिन यह आयु सीमा राज्य के नियमों के अनुसार भिन्न हो सकती है।

इसके अलावा, आपको स्थानीय शिक्षा निगमों या संबंधित शैक्षिक संस्थानों के नौकरी विज्ञापनों पर नजर रखनी चाहिए और उनकी आवश्यकताओं के अनुसार आवेदन करना चाहिए।

यदि आप दूसरे स्तर (TGT, PGT) के टीचर बनने की जानकारी चाहते हैं, तो कृपया उसके बारे में संदेह पूर्ण पूछें।

ट्रेंड ग्रेजुएट टीचर (TGT) कैसे बने

image 6

ट्रेंड ग्रेजुएट टीचर बनने के लिए सबसे पहले 12वीं की पढ़ाई के बाद ग्रेजुएशन की पूरी करनी होती है। इसके बाद, आपको बीएड (बैचलर ऑफ एजुकेशन) कोर्स करना होता है। B.Ed में एडमिशन प्राप्त करने के लिए, आपको प्री बीएड या PTET (प्री-टीचर एलिजिबिलिटी टेस्ट) एग्जाम की तैयारी करनी होती है। इस एग्जाम के सफल पास होने के बाद, आप टीचर ट्रेनिंग इंस्टीट्यूट में एडमिशन प्राप्त कर सकते हैं। आप ग्रेजुएशन के बाद B.Ed कोर्स करने के बाद भी ट्रेंड ग्रेजुएट टीचर बन सकते हैं, या फिर आप इंटीग्रेटेड कोर्स (जैसे कि BA+B.Ed, BSc+B.Ed, B.Com+B.Ed) करके भी TGT के पद के लिए पात्र हो सकते हैं।

इंटीग्रेटेड कोर्स 4 वर्षों में पूरा होता है और आपको ग्रेजुएशन और B.Ed की डिग्री एक साथ प्राप्त होती है। B.Ed कोर्स पूरा करने के बाद, आपको TET (टीचर एलिजिबिलिटी टेस्ट) या CTET (केंद्रीय शिक्षक पात्रता परीक्षा) एग्जाम की तैयारी करनी होती है और उसे पास करना होता है। TET या CTET एग्जाम के पास होने के बाद, आप टीचिंग के लिए पात्र हो जाते हैं और ट्रेंड ग्रेजुएट टीचर (TGT) के पद के लिए आवेदन कर सकते हैं। TGT टीचर बनने के लिए, आपकी आयु 21 से 40 वर्ष के बीच होनी चाहिए। यह आयु सीमा विभिन्न राज्यों में अलग-अलग हो सकती है। TGT टीचर कक्षा 6 से 10 के विद्यार्थियों को पढ़ाते हैं। TET या CTET एग्जाम पेपर-2 की तैयारी करनी होगी यदि आप TGT कक्षा 6 से 10 के विद्यार्थियों को पढ़ाना चाहते हैं।

पोस्ट ग्रेजुएट टीचर (PGT) कैसे बने

पोस्ट ग्रेजुएट टीचर (PGT) बनने के लिए सबसे पहले 12वीं की पढ़ाई के बाद ग्रेजुएशन की पूरी करनी होती है। इसके बाद, आपको 2 वर्ष का मास्टर डिग्री कोर्स (MA, MSc, MCom आदि) करना होता है। ग्रेजुएशन के बाद और पोस्ट ग्रेजुएशन के बाद, आपको B.Ed कोर्स करना होता है। ग्रेजुएशन, पोस्ट ग्रेजुएशन, और B.Ed की पढ़ाई के बाद, आप विभिन्न पीजीटी के पदों के लिए आवेदन कर सकते हैं। PGT टीचर कक्षा 11 और 12 के विद्यार्थियों को पढ़ाते हैं। PGT टीचर बनने के लिए आयु सीमा विभिन्न राज्यों और संघ क्षेत्र में अलग-अलग हो सकती है।

सरकारी टीचर बनने के लिए योग्यता

सरकारी टीचर बनने के लिए, आपको उपयुक्त योग्यता पूरी करनी होती है जो कि विभिन्न पदों के लिए भिन्न हो सकती है। योग्यता की जानकारी प्राप्त करने के बाद, आपको उसी पद के लिए आवेदन करना होता है जिसमें आपकी रुचि है और जिसमें आपकी योग्यता मेल खाती है।

सरकारी टीचर की सैलरी

सरकारी टीचर की सैलरी विभिन्न राज्यों और पदों के आधार पर अलग-अलग हो सकती है। प्राइमरी टीचर की मासिक सैलरी लगभग ₹37,000 से शुरू होती है, TGT की मासिक सैलरी ₹44,000 से ₹1,42,400 तक हो सकती है, और PGT की मासिक सैलरी ₹47,600 से ₹1,51,000 तक हो सकती है।

आयु सीमा

आयु सीमा भी पदों और राज्यों के आधार पर बदल सकती है। प्राइमरी टीचर के लिए आयु 18 से 35 वर्ष, TGT और PGT के लिए 21 से 40 वर्ष हो सकती है। रिजर्व कैटेगरी के छात्रों को आयु में छूट भी दी जा सकती है।

टीचर बनने के लिए योग्यता

टीचर बनने के लिए उपयुक्त योग्यता के अनुसार, आपको उपयुक्त शिक्षा प्रदान की जाती है। प्राइमरी टीचर बनने के लिए 12वीं के बाद डीएलएड, BSTC या फिर इसके समकक्ष कोर्स की आवश्यकता होती है। TGT के लिए 12वीं के बाद ग्रेजुएशन और फिर b.ed कोर्स करना होता है। PGT के लिए 12वीं के बाद बैचलर डिग्री कोर्स, मास्टर डिग्री कोर्स और अंत में b.ed कोर्स करना होता है।

टीचर बनने के लिए उम्र

टीचर बनने के लिए आपकी उम्र पदों और राज्यों के आधार पर निर्धारित होती है। प्राइमरी टीचर के लिए आयु 18 से 35 वर्ष, TGT के लिए 21 से 40 वर्ष, और PGT के लिए भी 21 से 40 वर्ष की आयु सीमा होती है। यह आयु सीमा विभिन्न राज्यों में भी अलग-अलग हो सकती है।

Telegram Group (Join Now) Join Now
WhatsApp Group (Join Now) Join Now
WhatsApp Channel (Follow Now) Follow Now

Leave a Comment